Open main menu

जैन धर्म

तीर्थंकरEdit

जैन धर्मय् २४गु तिर्थंकरतेत हनिगु ज्या जुइ |

The table's caption
No. Cell 2
1 ऋषभदेव जी
2 अजितनाथ जी
3 सँभवनाथ जी
4 अभिनंदन नाथ जी
5 सुमितनाथ जी
6 पदम प्रभु जी
7 सुपारश नाथ जी
8 चंदाप्रभु जी
9 सुविधी नाथ जी
10 शीतल नाथ जी
11 श्रेंय़ास नाथ जी
12 वासुपुज् जी
13 विमलनाथ जी
14 अनंत नाथ जी
15 धमँनाथ जी
16 शांतिनाथ जी
17 कुंथुनाथ जी
18 अऱह नाथ जी
19 मल्लीनाथ जी
20 मुनिसुव्रत जी
21 निमनाथ जी
22 अऱिषटनेमी जी
23 पारस नाथ जी
24 महावीर स्वामी जी

सम्प्रदायEdit

श्वेताम्बरEdit

श्वेताम्बर सन्यासी तेसं तुयुगु वस पुनि ।

दिगम्बरEdit

दिगम्बर मुनि(श्रमण) नांगां च्वनि।

धर्मग्रंथEdit

दर्शनEdit

'अनेकान्तवादEdit

स्यादवादEdit

जीव और पुद्गलEdit

जैन आत्मा यात माने याइ। इमिसं उकित "जीव" धाइ। अजीव यात पुद्गल धाइ । इमिगु कथलं म्ह निगु मिले जुया बुया वै । जीव दुख-सुख, आदियु अनुभव याइ व पुनर्जन्म काइ ।

मोक्षEdit

त्रिरत्नEdit

ईश्वरEdit

जैन ईश्वर यात माने याइ।

पंचमहाव्रतEdit

सत्य, अंहिसा, अस्तेय, ब्रह्मचर्य, अपरिग्रह ।

अहिंसा य्र जोडEdit

अहिंसा व जीव दयाय् यक्व जोड बिगु दु। सकल जैन शाकाहरी जुइ ।