Open main menu

हिन्दी सांवैधानिक तवलं भारतयागु प्रथम राजभाषा खः व भारतय् दक्ले अप्व ल्हाइगु व थुइगु भाषा खः। हिन्दी व थुकिगु बोलीतः उत्तर व मध्य भारतय् विविध प्रान्तय् ल्हाइ। २६ ज्यानुवरी ई सं १९६५य् हिन्दीयात भारतयागु आधिकारिक भाषा यु दर्जा बिल।

Hindī
हिन्दी, हिंदी
मू भाषी जनसंख्या भारत
Region भारतीय उपमहाद्वीप
Native speakers
ca. ४९० मिलियन माँभाय्, ७९० मिलियन सकल  (date missing)
देवनागरी लिपि, अन्य
आधिकारिक अवस्था
आधिकारिक मान्यता
भारत, फिजी (हिन्दूस्थानीयागु रुपे)
भाषा नियमन संस्था मध्य हिन्दी डिरेक्टोरेट [१]
भाषा कोड
ISO 639-1 hi
ISO 639-2 hin
ISO 639-3 hin
हिंदी को क्षेत्र


चीनी धुंका हिन्दी हलिमे दक्ले अप्व ल्हाइगु भाषा खः। भारत व भारत पिने ६० करोड (६०० मिलियन) स्वया अप्व मनुतेसं हिन्दी छ्येली। फिजी, मरिशस, गायना, सूरीनामनेपाल य् अधिकतर मनुतेसं हिन्दी थु।

भाषाविद कथं हिन्दी व उर्दू छगु हे भाषा खः। हिन्दी देवनागरी लिपिय् च्वइ व खंग्व यक्व संस्कृत नं वगु दु। उर्दू नस्तालिकय् च्वइ व खंग्वय् यक्व फारसीअरबी भाषातेगु असर दु। व्याकरणीय कथं उर्दू व हिन्दीय् यक्व समानता दु। छुं खास ध्वनित उर्दूय् अरबी व फारसी नं कयातगु दु व थ्व हे कथलं फारसी व अरबीयागु छुं खास व्याकरणीय संरचना नं छ्येलातगु दु।

धलः

परिवारEdit

हिन्दी भारोपेली (Indo-European languages) भाषा परिवारय् दुने ला व। थ्व भारतीय ईरानी (Indo-Iranian languages) शाखाय् हिन्द आर्य (Indo-Aryan language) उपशाखा यागु अन्तर्गतय् वर्गीकृत दु। भारतीय-आर्य भाषा व भाषातः खः जो संस्कृत नं उत्पन्न जुया वगु दु। उर्दू, कश्मीरी, बंगाली, उडिया, पंजाबी, रोमानी, मराठी थें न्यागु भाषात भारतीय-आर्य भाषा खः।


इतिहास क्रमEdit

संस्कृतयागु उदगम।

  • ३२२ बी. सी. - मौर्यतेसं ब्राह्मी लिपि यागु देकेज्या।
  • २५० बी. सी. - आदि संस्कृतयागु विकास। (आदि संस्कृत नं बिस्तारं १०० बी. सी. तक्क प्राकृततेगु थाय् काल।)
  • ३२० ए. डी. (ईसवी)- गुप्त वा सिद्ध मात्रिका लिपी यागु विकास ।

अपभ्रंश व आदि हिन्दीयागु विकास

  • ४०० - कालीदास नं "विक्रमोवशीर्यम्" अपभ्रंशय् च्वयादिल।
  • ५५० - वल्लभीयागु दर्शनय् अपभ्रंश यागु छ्येलेज्या।
  • ७६९ - सिद्ध सारहपद (हिन्दीयागु आदि कवि) नं "दोहाकोश" च्वयादिल।
  • ७७९ - उदयोतन सुरी यागु "कुवलयमल" य् अपभ्रंश यागु छ्येलेज्या।
  • ८०० - संस्कृतय् यक्व च्वया तल।
  • ९९३ - देवसेन यागु "शवकचर" (हिन्दीयागु न्हापांगु सफू जुइ फु)।
  • ११०० - आधुनिक देवनागरी लिपी यागु प्रथम स्वरूप।
  • ११४५-१२२९ - हेमचन्द्र नं अपभ्रंश व्याकरणयागु देकेज्या यानादिल।

अपभ्रंश यागु अस्त व आधुनिक हिन्दीयागु विकास

  • १२८३ - आमिर खुसरो यागु पहेली व मुकरिसय् "हिन्दवी" खंग्वयागु सर्वप्रथम छ्येलेज्या।
  • १३७० - "हंसवाली" यादु आसहात नं प्रेम कथातेगु न्ह्येथनेज्या यानादिल।
  • १३९८-१५१८ - कबीर यागु रचनातेसं निर्गुण भक्तियागु नींव तयादिल।
  • १४००-१४७९ - अपभ्रंशयागु आखरी महान चिनाखंमि रघु
  • १४५० - रामानन्द नापं "सगुण भक्ती" यागु शुरुआत।
  • १५८० - शुरुआती द]क्खिनी का कार्य "कालमितुल हाकायत्" -- बुर्हनुद्दिन जनम द्वारा।
  • १५८५ - नवलदास ने "भक्तामल" लिखी।
  • १६०१ - [[बनारसीदास] ने हिन्दी की पहली आत्मकथा "अर्ध कथानक्" लिखी।
  • १६०४ - गुरु अर्जुन देव ने कई कविओं की रचनाओं का संकलन "आदि ग्रन्थ" निकाला।
  • १५३२ -१६२३ तुलसीदास ने "रामचरित मानस" की रचना की।
  • १६२३ - जाटमल ने "गोरा बादल की कथा" (खडी बोली की पहली रचना) लिखी।
  • १६४३ - रामचन्द्र शुक्ला ने "रीति" के द्वारा काव्य की शुरुआत की।
  • १६४५ - उर्दू की शुरुआत।

आधुनिक हिन्दी





स्वर शास्त्रEdit

(Phonology of Hindi)

देवनागरी लिपि में हिन्दी की ध्वनियाँ इस प्रकार हैं :

स्वरEdit

ये स्वर आधुनिक हिन्दी (खड़ीबोली) के लिये दिये गये हैं ।

वर्णाक्षर “प” के साथ मात्रा IPA उच्चारण "प्" के साथ उच्चारण IAST समतुल्य अंग्रेज़ी समतुल्य हिन्दी में वर्णन
/ ə / / pə / a short or long en:Schwa: as the a in above or ago बीच का मध्य प्रसृत स्वर
पा / α: / / pα: / ā long en:Open back unrounded vowel: as the a in father दीर्घ विवृत पश्व प्रसृत स्वर
पि / i / / pi / i short en:close front unrounded vowel: as i in bit ह्रस्व संवृत अग्र प्रसृत स्वर
पी / i: / / pi: / ī long en:close front unrounded vowel: as i in machine दीर्घ संवृत अग्र प्रसृत स्वर
पु / u / / pu / u short en:close back rounded vowel: as u in put ह्रस्व संवृत पश्व वर्तुल स्वर
पू / u: / / pu: / ū long en:close back rounded vowel: as oo in school दीर्घ संवृत पश्व वर्तुल स्वर
पे / e: / / pe: / e long en:close-mid front unrounded vowel: as a in game (not a diphthong) दीर्घ अर्धसंवृत अग्र प्रसृत स्वर
पै / æ: / / pæ: / ai long en:near-open front unrounded vowel: as a in cat दीर्घ लगभग-विवृत अग्र प्रसृत स्वर
पो / ο: / / pο: / o long en:close-mid back rounded vowel: as o in tone (not a diphthong) दीर्घ अर्धसंवृत पश्व वर्तुल स्वर
पौ / ɔ: / / pɔ: / au long en:open-mid back rounded vowel: as au in caught दीर्घ अर्धविवृत पश्व वर्तुल स्वर
<none> <none> / ɛ / / pɛ / <none> short en:open-mid front unrounded vowel: as e in get ह्रस्व अर्धविवृत अग्र प्रसृत स्वर


व्यंजनEdit

जब किसी स्वर प्रयोग नहीं हो, तो वहाँ पर 'अ' माना जाता है । स्वर के न होने को हलन्त्‌ अथवा विराम से दर्शाया जाता है । जैसे कि क्‌ ख्‌ ग्‌ घ्‌ ।

Plosives / स्पर्श
अल्पप्राण
अघोष
महाप्राण
अघोष
अल्पप्राण
घोष
महाप्राण
घोष
नासिक्य
कण्ठ्य / kə /
k; English: skip
/ khə /
kh; English: cat
/ gə /
g; English: game
/ gɦə /
gh; Aspirated /g/
/ ŋə /
n; English: ring
तालव्य / cə / or / tʃə /
ch; English: chat
/ chə / or /tʃhə/
chh; Aspirated /c/
/ ɟə / or / dʒə /
j; English: jam
/ ɟɦə / or / dʒɦə /
jh; Aspirated /ɟ/
/ ɲə /
n; English: finch
मूर्धन्य / ʈə /
t; American Eng: hurting
/ ʈhə /
th; Aspirated /ʈ/
/ ɖə /
d; American Eng: murder
/ ɖɦə /
dh; Aspirated /ɖ/
/ ɳə /
n; American Eng: hunter
दन्त्य / t̪ə /
t; Spanish: tomate
/ t̪hə /
th; Aspirated /t̪/
/ d̪ə /
d; Spanish: donde
/ d̪ɦə /
dh; Aspirated /d̪/
/ nə /
n; English: name
ओष्ठ्य / pə /
p; English: spin
/ phə /
ph; English: pit
/ bə /
b; English: bone
/ bɦə /
bh; Aspirated /b/
/ mə /
m; English: mine
Non-Plosives / स्पर्शरहित
तालव्य मूर्धन्य दन्त्य/
वर्त्स्य
कण्ठोष्ठ्य/
काकल्य
अन्तस्थ / jə /
y; English: you
/ rə /
r; Scottish Eng: trip
/ lə /
l; English: love
/ ʋə /
v; English: vase
ऊष्म/
संघर्षी
/ ʃə /
sh; English: ship
/ ʂə /
sh; Retroflex /ʃ/
/ sə /
s; English: same
/ ɦə / or / hə /
h; English home


वर्णाक्षर (IPA उच्चारण) उदाहरण वर्णन अंग्रेज़ी वर्णन ग़लत उच्चारण
क़ (/ q /) क़त्ल अघोष अलिजिह्वीय स्पर्श Voiceless uvular stop (/ k /)
ख़ (/ x or χ /) ख़ास अघोष अलिजिह्वीय या कण्ठ्य संघर्षी Voiceless uvular or velar fricative (/ kh /)
ग़ (/ ɣ or ʁ /) ग़ैर घोष अलिजिह्वीय या कण्ठ्य संघर्षी Voiced uvular or velar fricative (/ g /)
फ़ (/ f /) फ़र्क अघोष दन्त्यौष्ठ्य संघर्षी Voiceless labio-dental fricative (/ ph /)
ज़ (/ z /) ज़ालिम घोष वर्त्स्य संघर्षी Voiced alveolar fricative (/ dʒ /)
ड़ (/ ɽ /) पेड़ अल्पप्राण मूर्धन्य उत्क्षिप्त Unaspirated retroflex flap -
ढ़ (/ ɽh /) पढ़ना महाप्राण मूर्धन्य उत्क्षिप्त Aspirated retroflex flap -

हिन्दी में ड़ और ढ़ व्यंजन फ़ारसी या अरबी से नहीं लिये गये हैं, न ही ये संस्कृत में पाये जाये हैं । असल में ये संस्कृत के साधारण और के बदले हुए रूप हैं ।

हिन्दी की गिनतीEdit

व्याकरणEdit

देखिये हिन्दी व्याकरण

हिन्दी में सिर्फ़ दो ही लिंग होते हैं : स्त्रीलिंग और पुल्लिंग । कोई वस्तु या जानवर या वनस्पती या भाववाचक संज्ञा स्त्रीलिंग है या पुल्लिंग, इसका भेद सिर्फ़ रिवाज़ से होता है, जिसे याद करना पड़ता है ( कभी-कभी संज्ञा के अन्त-स्वर से भी पता चल जाता है ) । संज्ञा में तीन शब्द-रूप हो सकते हैं -- प्रत्यक्ष रूप, अप्रत्यक्ष रूप और संबोधन रूप । सर्वनाम में कर्म रूप और सम्बन्ध रूप भी होते हैं, पर सम्बोधन रूप नहीं होता । संज्ञा और -कारन्त विशेषण में प्रत्यय द्वारा रूप बदला जाता है । सर्वनाम में लिंग-भेद नहीं होता । क्रिया के भी कई रूप होते हैं, जो प्रत्यय और सहायक क्रियाओं द्वारा बदले जाते हैं । क्रिया के रूप से उसके विषय संज्ञा या सर्वनाम के लिंग और वचन का भी पता चल जात है । हिन्दी में दो वचन होते हैं-- एकवचन और बहुवचन । किसी शब्द की वाक्य में जगह बताने के लिये कई कारक होते हैं, जो शब्द के बाद आते हैं (postpositions) । अगर संज्ञा को कारक के साथ ठीक से रखा जाये तो वाक्य में शब्द-क्रम काफ़ी मुक्त होता है ।

हिन्दी और कम्प्यूटरEdit

कम्प्यूटर और इन्टरनेट ने पिछ्ले वर्षों मे विश्व मे सूचना क्रांति ला दी है । आज कोई भी भाषा कम्प्यूटर (तथा कम्प्यूटर सदृश अन्य उपकरणों) से दूर रहकर लोगों से जुड़ी नही रह सकती। कम्प्यूटर और के विकास के आरम्भिक काल में अंग्रेजी को छोडकर विश्व की अन्य भाषाओं के कम्प्यूतर पर प्रयोग की दिशा में बहुत कम ध्यान दिया गया जिससे कारण सामान्य लोगों में यह गलत धारणा फैल गयी कि कम्प्यूटर अंगरेजी के सिवा किसी दूसरी भाषा(लिपि) में काम ही नही कर सकता। किन्तु यूनिकोड(Unicode) के पदार्पण के बाद स्थिति बहुत तेजी से बदल गयी।
इस समय हिन्दी में सजाल (websites), चिट्ठे (Blogs), विपत्र (email), गपशप (chat), खोज (web-search), सरल मोबाइल सन्देश (SMS) तथा अन्य हिन्दी सामग्री उपलब्ध हैं। इस समय अन्तरजाल पर हिन्दी में संगणन के संसाधनों की भी भरमार है और नित नये कम्प्यूटिंग उपकरण आते जा रहे हैं। लोगों मे इनके बारे में जानकारी देकर जागरूकता पैदा करने की जरूरत है ताकि अधिकाधिक लोग कम्प्यूटर पर हिन्दी का प्रयोग करते हुए अपना, हिन्दी का और पूरे हिन्दी समाज का विकास करें।

हिन्दी फ़िल्मEdit

मुख्य लेख: हिन्दी सिनेमा

हिन्दी सिनेमा का उल्लेख किये बग़ैर हिन्दी का कोई भी लेख अधूरा होगा । मुम्बई मे स्थित "बॉलिवुड" हिन्दी फ़िल्म उद्योग पर भारत के करोड़ो लोगों की धड़्कनें टिकी रहती हैं । हर फ़िल्म में कई संगीतमय गाने होते हैं । हिन्दी और उर्दू (खड़ीबोली) के साथ साथ अवधी, बम्बइया हिन्दी, भोजपुरी, राजस्थानी जैसी बोलियाँ भी संवाद और गानों मे उपयुक्त होते हैं । प्यार, देशभक्ति, परिवार, अपराध, भय, इत्यादि मुख्य विषय होते हैं । ज़्यादातर गाने उर्दू शायरी पर आधारित होते हैं । कुछ हिट फ़िल्मे हैं : महल (1949), श्री 420 (1955), मदर इंडिया (1957), [[मुग़ल- ए-आज़म]] (1960), गाइड (1965), पाकीज़ा (1972), बॉबी (1973), ज़ंजीर (1973), यादों की बारात (1973), दीवार (1975), शोले (1975), मिस्टर इंडिया (1987), क़यामत से क़यामत तक (1988), मैंने प्यार किया (1989), जो जीता वही सिकन्दर (1991), हम आपके हैं कौन (1994), दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे (1995), दिल तो पागल है (1997), कुछ कुछ होता है (1998), ताल (1999), कहो ना प्यार है (2000), लगान (2001), दिल चाहता है (2001), कभी ख़ुशी कभी ग़म (2001), देवदास (2002), साथिया (2002), मुन्ना भाई MBBS (2003), कल हो ना हो (2003), धूम (2004), वीर-ज़ारा (2004), स्वदेस (2004), सलाम नमस्ते (2005), रंग दे बसंती (2006) इत्यादि ।

यह भी देखिएEdit

बाहरी कड़ियाँEdit

हिन्दी श्रेणी:विश्व की भाषाएँ श्रेणी:भारतीय भाषाएँ